मोदी सरकार की इस Yojana में हर महीने मिलेंगे 5000 रुपये, जानें कैसे उठाएं फायदा

Jan Aushadhi Kendra Scheme Rs Yojana

नई-दिल्ली. केंद्र सरकार ने अब कम निवेश पर सेवानिवृत्ति के बाद हर महीने पेंशन की गारंटी देने के लिए Atal Pension Yojana (APY) शुरू की है। वर्तमान में अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) के तहत सरकार 1000 से 5000 रुपये प्रतिमाह पेंशन की गारंटी देती है। सरकार की इस योजना में,

40 वर्ष की आयु तक का व्यक्ति आवेदन कर सकता है। Atal Pension Yojana का उद्देश्य हर वर्ग को पेंशन के दायरे में लाना है। हालांकि पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने सरकार से Atal Pension Yojana के तहत अधिकतम आयु बढ़ाने की सिफारिश की है।

18 साल की उम्र में निवेश शुरू करने पर देने होंगे सिर्फ 42 रुपये महीने

अटल पेंशन योजना के तहत आपको हर महीने खाते में अंशदान कर सेवानिवृत्ति के बाद मासिक पेंशन मिलेगी। सरकार हर 6 महीने में केवल 1,239 रुपये निवेश करने पर 60 साल की उम्र के बाद 5000 रुपये प्रति माह यानी 60,000 रुपये प्रति वर्ष,

की आजीवन पेंशन की गारंटी दे रही है। मौजूदा नियमों के मुताबिक अगर 18 साल की उम्र में मासिक पेंशन के लिए योजना में अधिकतम 5000 रुपये जोड़े जाते हैं, तो आपको हर महीने 210 रुपये देने होंगे।

अगर यही पैसा हर तीन महीने में दिया जाता है तो 626 रुपये देने होंगे। 1,000 रुपये प्रतिमाह पेंशन पाने के लिए अगर आप 18 साल की उम्र में निवेश करते हैं तो हर महीने सिर्फ 42 रुपये देने होंगे।

जितनी जल्दी इस Yojana से जुड़ेंगे, आपको उतना ही कम निवेश करना होगा

आप सरकार की इस पेंशन योजना में जितने कम उम्र में शामिल होंगे, प्रीमियम उतना ही कम और लाभ अधिक होगा। मान लीजिए अगर आप 35 साल की उम्र में 5000 पेंशन के लिए ज्वाइन करते हैं तो 25 साल तक आपको हर 6 महीने में 5,323 रुपये जमा करने होंगे।

ऐसे में आपका कुल निवेश 2.66 लाख रुपये होगा, जिस पर आपको 5 हजार रुपये मासिक पेंशन मिलेगी। वहीं 18 साल की उम्र में ज्वॉइन करने पर आपका कुल निवेश सिर्फ 1.04 लाख रुपये होगा यानी करीब 1.60 लाख रुपये ज्यादा उसी पेंशन के लिए लगाने होंगे.

अटल पेंशन योजना की विशेषताएं

भुगतान के लिए आप 3 प्रकार की मासिक, त्रैमासिक या अर्धवार्षिक योजनाएँ चुन सकते हैं। आयकर की धारा 80CCD के तहत कर छूट का लाभ। एक सदस्य के नाम से केवल एक ही खाता खोला जाएगा।

यदि सदस्य की मृत्यु 60 वर्ष से पहले या बाद में हो जाती है, तो पत्नी को पेंशन दी जाएगी। अगर सदस्य और पत्नी दोनों की मृत्यु हो जाती है, तो नॉमिनी को पेंशन मिलेगी।

यह भी पढ़ें: खुशखबरी: केंद्र सरकार घर बैठे दे रही 2 लाख Rs, बस 30 जून से पहले करना होगा ये काम