28 साल बाद, बाबरी मस्जिद विध्वंस पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, सभी आरोपी बरी

मस्जिद

नई दिल्ली. 6 दिसंबर 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले पर आज सीबीआई की विशेष अदालत ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया। जज एसके यादव ने फैसला पढ़ते हुए कहा.

कि बाबरी मस्जिद गिराने की घटना अचानक हुई। घटना पूर्व नियोजित नहीं थी। इसके कोई साक्ष्य भी नहीं है। इस मामले में लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह समेत 49 आरोपी बनाए गए थे,

जिसमें 17 लोगों की मौत हो चुकी है। 32 में 26 आरोपी कोर्ट में मौजूद थे। बाकी छह आरोपी वीडियो कानफ्रेंसिंग के जरिए लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, शिवसेना के पूर्व सांसद सतीश प्रधान, महंत नृत्य गोपाल दास, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह भी जुड़े।

यह भी पढ़ें: लड़कियों के रेप और हत्या पर, समाज, न्यायिक, प्रशासन, और सरकारों का जमीर कब जागेगा?