अनाथ व जरूरतमंद बच्चों के साथ खुशियां बाँटकर मनाया दीपावली पर्व

अनाथ गरीब दीपावली

सनावद. दीपावली पर्व पर जहाँ हर्षोल्लास के साथ मनाकर लोग अपनी सारी इच्छाएं पूरी करते हैं वहीं एक वर्ग ऐसा भी हैं जो अपनी जरूरतों को पूरा करने में भी असमर्थ हैं। ऐसे ही अनाथ व जरूरतमंद बच्चों की सिस्टर नव्या मसीहा बनी हुई हैं।

बड़वाह में ऐसे कई बच्चों का सहारा बनकर उनका जीवन संवारने का काम सिस्टर नव्या कई वर्षों से कर रही हैं। क्षेत्र में कहीं भी ऐसे बेसहारा व निराश्रित बच्चों मिलते हैं उनके आवास, शिक्षा, खान-पान आदि की व्यवस्था संस्था में कि जाती हैं।

संस्था से जुड़े व अपना हर त्यौहार इन बच्चों के बीच मनाने वाले समाज सेवी अनिल चौधरी, ममता चौधरी, कमल पटेल, डॉ. कमलेश चौधरी, माही चौधरी सनावद ने दीपावली के अवसर पर नव्या संस्था में बच्चों को कपड़े, मिठाई व फल वितरित किए।

दीपावली के दिन इन परिवारों को अपने बीच पाकर बच्चें भी खुश हुए व एक दूसरे को दीपावली की शुभकामनाएँ दी। समाजसेवी अनिल चौधरी ने बताया कि खुशियां बाँटने से बढ़ती हैं और जीवन की सार्थकता इसमें नहीं हैं कि हम कितने खुश हैं,

पर हमारी वजह से कितने लोग खुश हैं यह महत्वपूर्ण हैं। इसलिए अपनी खुशियों में ऐसे लोगों को भी शामिल करना चाहिए या उनकी मदद करना चाहिए जो बेसहारा या अनाथ हैं और जीवन जीने के लिए संघर्षरत हैं।

नव्या जनकल्याण समिति के संचालक सिस्टर नव्या व महेश पाटीदार ने सहयोगियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए बताया कि समय समय पर समाजसेवियों की उपस्थिति व उनके सहयोग से ही संस्था का संचालन हो रहा हैं.

लेकिन बच्चों की बढ़ती संख्या के कारण उनके आवास,शिक्षा व खान पान आदि की व्यवस्थाएं जुटाना मुश्किल हो रहा हैं इसलिए प्रशासन व समाज सेवियों से मदद की और दरकार हैं।

जिससे इन 50 से ज्यादा अनाथ व निराश्रित बच्चों को आगे की शिक्षा व रोजगार के माध्यम से उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़कर उनका भविष्य संवारा जा सके।

यह भी पढ़ें: अमित शाह ने शाम 5 बजे दिल्ली में कोविड-19 में बढ़ोतरी की समीक्षा के लिए बुलाई बैठक