कलेक्टर अनुग्रहा: चीट फंड कंपनियों पर करें कार्यवाही, समयावधि पत्रों की समीक्षा बैठक संपन्न

अनुग्रह पी

खरगोन. सोमवार को कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी की अध्यक्षता में समयावधि पत्रों की समीक्षा बैठक आयोजित हुई। बैठक में कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा ने सभी अनुभागों के अनुविभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि चीट फंड कंपनियों द्वारा आम नागरिकों के साथ में की गई.

धोखाधड़ी के आवेदनों की समीक्षा कर जिन मामलों में FIR दर्ज नहीं हुई है, उन पर FIR दर्ज कराएं और जिन मामलों में पूर्व में FIR दर्ज हो चुकी है, ऐसे प्रकरणों के लिए पृथक से SDOP और थाना प्रभारियों के साथ बैठक करें।

चीट फंड कंपनियों की कार्यवाहियों का लेखा-जोखा अगली बैठक में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। बैठक में अपर कलेक्टर श्री एमएल बनेल, श्री बीएस सोलंकी, समस्त अनुभागों के SDM सहित भी जिलाधिकारी उपस्थित रहे। रोड़ निर्माण नहीं करने पर कराएं FIR दर्ज.

बैठक में नपा CMO श्रीमती प्रियंका पटेल ने अवगत कराया कि गत दिनों MPUDI के नेतृत्व में JMC द्वारा जलावर्धन व सीवरेज के कार्य के दौरान रोड़ खोदे जाने के बाद रोड़ रेस्टोरेशन नहीं किया गया। बार-बार बताएं जाने के बावजूद भी इस कार्य के प्रति लापरवाही बरती जा रही है।

कंपनी द्वारा निर्माण के दौरान रोड़ के दोनों किनारें पर खुदाई होने के पश्चात मिट्टी बिना दबाएं डाल दी गई। बारिश में पानी जमा होने के कारण डामर वाली सड़क पूरी तरह खराब हो चुकी है। खुदाई से पूर्व ही नगर पालिका द्वारा सड़क निर्माण कराया गया था।

न.पा. CMO श्रीमती पटेल ने बताया कि जेएमसी कंपनी के ठेकेदार रोड़ बनाने के लिए तैयार है, लेकिन MPUDI इस कार्य में लापरवाही कर रहा है। इस बात पर कलेक्टर ने पूरे मामले को समझते हुए रोड़ नहीं बनाने पर कंपनी पर FIR दर्ज कराने के निर्देश दिए।

सीसी सेंटर पूर्ण करके करें तैयार

बैठक में कलेक्टर अनुग्रहा ने समस्त एसडीएम को निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण पुनः बढ़ने लगा है। इसलिए पूर्व में तैयार किए गए कोविड केयर सेंटर पुनः तैयार किए जाएं। कोविड केयर सेंटर्स में मरीज नहीं होने की स्थिति में बंद कर दिए जाने के बाद अब उन्हें पुनः साफ, सफाई कराई जाएं।

बैठक में इंड्स्टीज क्षेत्रों में अतिक्रमण हटाने के लिए समस्त एसडीएम को निर्देश दिए। इसके अलावा बैठक में खाद्य वितरण प्रणाली के स्टॉक वेरीफिकेशन, पीएम किसान, स्ट्रीट वेंडर तथा मिलावट पर कार्यवाही करने के संबंध में भी समीक्षा की।

यह भी पढ़ें: रघुराम राजन: RBI का व्यावसायिक घरानों को बैंकिंग की अनुमति देने का प्रस्ताव 1 बुरा विचार है