Crude Oil Price High: पेट्रोल-डीजल पर फिर आई आफत, कच्चे तेल की क़ीमत मे हुई बढ़ोतरी

Crude Oil Price High

Crude Oil Price High: पेट्रोल और डीजल की कीमतों में एक बार फिर से उछाल आ सकता है। यानी महंगाई से जूझ रही आम जनता पर एक और आफत आने के आसार हैं। इसकी वजह कच्चे तेल की कीमत में तेजी है। शुक्रवार को वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में 2% की तेजी देखने को मिली.

यह तेजी रूस से निर्यात होने वाले कच्चे तेल में कमी की वजह से देखने को मिली। ब्रेंट कच्चा तेल 1.4 डॉलर की तेजी के साथ 82.38 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। जबकि अमेरिकी कच्चे तेल की कीमत में 1.5 डॉलर तक की तेजी देखने को मिली.

Crude Oil Price High

रूस का निर्यात 20% घटा

नवंबर के मुकाबले दिसंबर में रूस के बाल्टिक तेल निर्यात में 20 फीसदी की गिरावट आई है। यूरोपीय संघ और जी7 देशों के ताजा प्रतिबंधों के बाद रूस से आने वाले कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आई है। वहीं, 5 दिसंबर को रूसी कच्चे तेल की कीमतों पर प्राइस कैप लगा दी गई है, जिसका असर इसके निर्यात पर भी पड़ा है।

क्या चीन के कोरोना से बढ़ेगी कीमत?

प्राइस कैप के जवाब में रूस जहां 2023 की शुरुआत में कच्चे तेल के उत्पादन में 5 से 7 फीसदी की कमी कर सकता है। वहीं, चीन में कोरोना का बढ़ता प्रकोप इसकी मांग को कम कर सकता है। इससे वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमत में और तेजी आने की संभावना है। साथ ही मंदी की आशंका के चलते पेट्रोल-डीजल के इस्तेमाल में भी कमी आ सकती है.

Crude Oil Price High: कच्चे तेल की Price में लगातार हो रही हैं बढ़ोतरी

पिछले एक हफ्ते में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी के रुझान पर नजर डालें तो इसमें तेजी साफ नजर आएगी। सप्ताह के पहले दिन 19 दिसंबर को डब्ल्यूटीआई कच्चे तेल की कीमत 75.89 डॉलर प्रति बैरल थी।

23 दिसंबर को यह 80 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार कर गया था। यानी इसकी कीमत में 7.23 फीसदी का बदलाव हुआ है. वहीं, इसकी कीमत में करीब 5 डॉलर का अंतर देखा गया है।

कब तक स्थिर रहेंगे पेट्रोल और डीजल के दाम?

भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें 21 मई से स्थिर बनी हुई हैं। तब सरकार ने ईंधन पर उत्पाद शुल्क घटाया था। इस समय दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 96.72 Rs Per Litre और Diesel की Price 89.62 Rs Per Litre बनी हुई है. हालांकि कुछ समय पहले तीन सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं होने से,

21 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का घाटा होने की बात कही थी। उन्होंने सरकार से इसकी भरपाई करने की मांग की है। ऐसे में देखना होगा कि कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों और तेल कंपनियों के घाटे से अप्रभावित रहे पेट्रोल और डीजल के दाम कब तक स्थिर रहते हैं?

जरूर पढ़े: लॉन्च हो गई 150Km रेंज वाली मिनी इलेक्ट्रिक कार Geely Panda, कीमत हैं 5 लाख रु से भी कम

क्या वैक्सीन लगवा चुके लोगों को भी है कोविड के नए वैरिएंट से मौत या संक्रमित होने खतरा? डॉ. नरेश त्रेहान ने दिया जवाब

पिछला लेखलॉन्च हो गई 150Km रेंज वाली मिनी इलेक्ट्रिक कार Geely Panda, कीमत हैं 5 लाख रु से भी कम
अगला लेखCOVID-19 Alert: आपको सर्दी है या Omicron BF.7 ने हैं जकड़ा, चंद मिनटों में ऐसे होगी पहचान
ध्रुववाणीन्यूज़डॉटकॉम एक हिंदी न्यूज वेबसाइट हैं जिसकी शुरुआत वर्ष 2020 में की गई थी। यह एमपी के बड़वाह से प्रकाशित लोकप्रिय दैनिक समाचार पत्र ध्रुव वाणी की आधिकारिक वेबसाइट हैं, हमारी टीम प्रति-दिन देश और दुनिया की ताज़ा खबरें हिंदी भाषा में उपलब्ध कराती है। समाचारों के अलावा हम नौकरी, व्यापार, स्वास्थ्य, तकनीकी आदि से जुड़ी जानकारियां भी वेबसाइट पर अपडेट करते हैं, जिससे पाठको को उनके रुचि के अनुसार सभी प्रकार की जानकारी मिलती रहे। हमारा उद्देश्य हैं जनता को उनके अधिकारों और हितों के प्रति जागरूक करना, साथ ही दुनिया भर के हिंदी भाषी लोगों तक हिंदी मे सही जानकारी उपलब्ध कराना भी है। हम पिछले 17 वर्षो से हमारे दैनिक समाचार पत्र ध्रुव वाणी और पिछले 2 से अधिक वर्षो से ध्रुववाणीन्यूज़ के माध्यम से अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए निरंतर प्रयासरत हैं।