महालक्ष्मी मंदिर में 256 प्रकार के व्यंजनों के अन्नकूट भोग के साथ हुआ दीपोत्सव का समापन

महालक्ष्मी मंदिर

खंडवा. प्रति वर्ष की तरह दीपावली की पावन बेला पर 5 दिवसीय दीपोत्सव पर्व शहर के एक मात्र महालक्ष्मी माता मंदिर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।

पर्व के दौरान महालक्ष्मी मंदिर में 5 दिन तक महालक्ष्मी का अभिषेक व विशेष श्रृंगार के साथ बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने मंदिर पहुंचकर महालक्ष्मी की आराधना करते हुए पूजा अर्चना कर श्रीफल, कमल का फूल व सुहाग सामग्री भेंट की।

दीपावली पर महालक्ष्मी मंदिर को विशेष रूप से सजाकर आकर्षक रोशनी भी की गई थी जो आकर्षण का केंद्र रही। महालक्ष्मी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष सुभाष खंडेलवाल ने बताया कि कोविड-19 के चलते इस वर्ष मंदिर में श्रध्दालुओं के दर्शन के लिए विशेष व्यवस्था की गई थी,

जिसमें सोशल डिस्टेसिंग के साथ ही मंदिर में भक्तों के लिए सेनेटाइजर सुविधा भी रखी गई थी। इसके साथ ही सामाजिक दूरी के नियम का पालन करते हुए पर्व मनाया गया। मंदिर में सोमवार को भाईदूज पर अन्नकूट महोत्सव बड़े ही धार्मिक उत्साह के साथ मनाया गया।

प्रात: 5.30 बजे महालक्ष्मी माता का अभिषेक व श्रृंगार एवं 8.30 बजे महाआरती की गई। जिसमें श्रद्धालु उपस्थित हुए। समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि दीपावली महोत्सव के अंतिम दिन भाई दूज के पावन अवसर पर महालक्ष्मी माता मंदिर में मां लक्ष्मीजी को श्रद्धालुओं द्वारा घर पर बनाए गए.

256 प्रकार व्यंजनों का भोग पंडित बसंत महोदय एवं संजय पहारे द्वारा लगाकर भोग महाआरती की गई। भाई दूज के दिन भगवान श्री कृष्ण को भी माखन मिश्री का भोग लगाया गया। वहीं कोरोना महामारी के चलते इस वर्ष मंदिर परिसर में भंडारे का आयोजन नहीं किया गया।

लेकिन 256 प्रकार के व्यंजन बनाकर अन्नकूट महोत्सव पर दर्शन के लिए रखे गए। दर्शन का लाभ दोपहर 12.30 बजे से शाम 4 बजे तक भक्तों ने लिया। तत्पश्चात शाम 4 बजे मंदिर में भोग के साथ प्रसादी वितरण का आयोजन शाम तक चलता रहा।

जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। इस अवसर राकेश झंवर, सुभाष खंडेलवाल, संतोष यादव, संजय शुक्ला, अखिलेश गुप्ता, शरद खंडेलवाल समाजसेवी सुनील जैन, मधुकांता खंडेलवाल, शकुंतला झंवर, कमला चौधरी, बबली अत्रे सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह में ऑनलाईन संचार से शिक्षा के जीर्णोद्धार पर हुआ कार्यक्रम