जीरो डाउन पेमेंट से चीजें खरीदने से जेब पर पड़ेगा असर, देने पड़ सकते हैं लाखों रुपये, जानें फाइनेंस के ये नियम

Zero Down Payment

Zero Down Payment

Zero Down Payment: अक्सर देखा जाता है कि किसी को बाइक या कार, मोबइल फोन लेने का शौक होता है तो वह इसको खरीदने के लिए लोन ले लेते हैं। जहां पर बैंक आपको दो तरह की सहुलियत देता है। आप पहले विकल्प के तौर पर थोडे से पैसों की डाउन पेमेंट करके खरीद सकते हैं और दूसरे ऑप्शन में डाउनपेमेंट स्कीम का सहारा ले सकते हैं।

जीरों डाउन पेमेंट शुरुआत में काफी अच्छी लगती है लेकिन बाद में यह आपके बजट को बिगाड़ देती है। इस लेख के माध्यम के द्वारा कुछ यही बताया गया है कि किन चीजों को डाउन पेमेंट पर खरीदना चाहिए।

क्‍या है डाउन पेमेंट स्‍कीम:Zero Down Payment

उदाहरण के तौर पर डाउन पेमेंट स्कीम को समझिए। मान लें कि 1 लाख रुपये की किसी बाइक की खरीदारी कर रहे हैं उसमें आप 10 हजार रुपये जमा कर देते हैं बाकी आप लोन ले लेते हैं तो जमा की गई कम राशि से कुल राशि का कुछ भाग चुका देते हैं और बाकी का पेमेंट आप बैंक के द्वारा कर सकते हैं। वहीं जब कोई चीज जीरों डाउन पेमेंट से खरीदते हैं को उसके लिए किसी भी राशि को नही चुकाना होता है।

डाउन पेमेंट भरने से होता है फायदा:

अगर आप डाउन पेमेंट जमा करके कोई चीज खरीदते हैं तो इसका सीधा लाभ आपके द्वारा ली गई EMI पर पड़ता है। क्यों कि कुल भाग का कुछ हिस्सा आपने पहले ही जमा कर दिया है। ऐसे में जितना डाउन पेमेंट करेगे उतना कर्ज कम होगा।

जैसे किसी शख्स ने 20 लाख रुपये की कार खरीदी है और 5 साल की लोन का समय है। अगर वह 2 लाख रुपये लोन की डाउनपेमेंट करता है तो उसे 18 लाख रुपये का कार लोन लेना होगा और 5 साल के समय में जमा भी करना होगा। अगर वहीं 5 लाख रुपये का डाउन पेमेंट करते हैं तो 5 साल में 15 लाख रुपये तक का लोन चुकाना पडता है।

दूसरे ऑप्शन में आपको लोन पर कम ब्याज देना होगा और वहीं जीरो डाउन पेमेंट पर अधिक ब्याज चुकाना होगा। आपको फाइनेंसर य़ा बैंक पर ब्याज भी अधिक देना पड़ता है। जिससे अधिक ब्याज चुकाना पडता है।

इसको समझिए:

मान लें कि आप कोई कार लोन पर ले रहे हैं और इसकी शोरुम की कीमत 6 लाख है। यहां बैंक के द्वार लिए जा रहे 10 प्रतिशत के ब्याज और लोन के समयावधि 5 साल मान लेते हैं। यदि आप 6 लाख रुपये का फाइनेंस करातेत हैं तो आपको हर महीने EMI के तौर पर 12,748 रुपये देने होते हैं

वहीं 1 लाख रुपये जमा करने पर बाकी 5 लाख रुपये पर 10,624 रुपये EMI के तौर पर चुकाने होते हैं। वहीं अगर कोई चीज जीरों डाउन पेमेंट में खरीदते हैं तो उसके लिए लाखो रुपये देने पड़ सकते हैं।

जरुर पढ़े:- Rent Agreement 11 महीने का ही क्यों बनाया जाता हैं? जानें इसके पीछे का कानूनी नियम, जिससे बचेंगे आपके हजारों रुपये

इस तरह के पेट्रोल खरीदने पर 1 नवंबर से देना होगा 2 रूपये ज्यादा, भारत सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन, जानें डिटेल्स

अब SIM Card के बिना ही चलेगा स्मार्टफोन, भारतीय कंपनी ने खोजी यह तकनीक, जल्दी पढ़ें डिटेल

LML लाने जा रही है दमदार इलेक्ट्रिक स्कूटर, बाइक और साईकिल, लुक और फीचर्स बना देंगे दीवाना