दुल्हो का अनोखा मेला: यहां लगता है दूल्हों का मेला, लड़कियां, लड़कों के इन सारे अंगों चेक करके करती हैं शादी

Groom Mela

Groom MelaGroom Mela: जब शादी की बात आती है, तो पहले दो परिवार मिलते हैं। दोनों परिवार एक-दूसरे से मिलते हैं और गहन जांच करते हैं। इसके बाद लड़का-लड़की एक-दूसरे को पसंद करते हैं तो शादी तय हो जाती है।

अगर ये सब चीजें ठीक से नहीं की जाती हैं तो शादी तय नहीं होती है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताते हैं जहां Groom Mela लगता है। यहां लड़का लड़की को नहीं बल्कि लड़की अपने वर को चुनती है।

यहां Groom Mela लगता है

आपको बता दें कि बिहार के मिथिलांचल इलाके में 700 साल से दूल्हे का बाजार है, जिसमें हर धर्म और जाति के दूल्हे आते हैं। इसमें दुल्हन दूल्हे को चुनती है। जिसकी बोली सबसे ज्यादा दूल्हा उसका होता है।

इसके साथ ही घरवाले दूल्हे के बारे में सारी जानकारी पता करते है। इतना ही नहीं, दोनों का मिलन होता है और लड़की और लड़की की जन्म पत्री मिलाई जाती है। इस तरह दोनों की शादी एक योग्य वर चुनकर कर की जाती है।

1310 ईस्वी में शुरू हुआ

जानकारी के अनुसार इस मेले की शुरुआत 1310 ई. हुई। इसकी शुरुआत 700 साल पहले कर्णाट वंश के राजा हरिसिंह देव ने की थी। इसका उद्देश्य यह था कि विवाह एक ही गोत्र में न हो, बल्कि वर-वधू के अलग-अलग गोत्र हों।

इस परंपरा को शुरू करने का क्या कारण था

इस मेले को शुरू करने का मकसद इतना था कि लड़की के घरवालों को शादी के लिए ज्यादा परेशानी न उठानी पड़े। यहां हर वर्ग के लोग अपनी लड़की की शादी के लिए आते हैं और न तो दहेज देना पड़ता है और न ही शादी के लिए लाखों रुपये खर्च करने पड़ते हैं।

जरूर देखें: यदि आपका Aadhaar Card हो गया हैं 10 वर्ष पुराना तो भारत सरकार दे रही ये जबरदस्त मौका, जानें आखिर क्या हैं वो मौका?

मार्केट में भौकाल माचाने आ गई 521 किमी रेंज वाली Electric Car, इतनी कम कीमत में करें बुक

PM Kisan: किसानों के लिए बुरी खबर! सरकार ने समाप्त कर दी यह बड़ी सुविधा, इसका पडेगा बुरा असर

इस लग्जरी कंपनी ने पेश की अपनी पावरफुल इंजन वाली सबसे सस्ती कार, देखें कीमत और फीचर्स