एक ऐसी बिल्डिंग जिसके बींचो-बीच से गुजरता है हाईवे! देखकर रह जाएंगे दंग, देखना है बेहद रोमांचक

Highway in Apartment

Highway in Apartment

Highway in Apartment: आपने अपने जीवन में कई सारे हाईवे (Highway) देखें होंगे। लंबे हाईवे (Long Highway) से लेकर सबसे चौड़े हाईवे (Wide Highway) के बारे में तो जरुर सुना होगा। क्या आपने किसी ऐसे हाइवे को देखा है जो कि बिल्डिंग के बीचो-बीच से निकलता है।

आज हम आपको एक ऐसे ही हाईवे के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि 16 मंजिल की बिल्डिंग के बीच से निकलता है। यह देखना थोड़ा अविश्विशनीय लगता है तो आइए इस हाइवे के बारे में सारी डिटेल को जानते हैं।

इस देश में है ये हाईवे: Highway in Apartment

आज हम जिस हाईवे की बात कर रहे हैं वो जपान में हैं। यह ओसाका शहर में वास्तुकला का बेमिशाल नमूना देखने को मिलता है। यहां एक 16 माले की बिल्डिंग है जिसका नाम गेट टावर है इस विशाल इमारत की खास बात यह है कि इसके बीचो बीच से हाईवे गुजरता है।

इस तरह दुनिया में कही भी देखने को नही मिलता है। बिल्डिंग के बीच से हाइवे जाने के कारण इमार्त पर किसी भी तरह का असर नही पड़ता है। और न ही किसी ट्रैफिक की रोक होती है।

बिल्डिंग में नहीं आता शोर

इस बिल्डिंग को इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि ट्रैफिक की वजह से बिल्डिंग में वाइब्रेशन ना मेहसूस हो और ना ही ट्रैफिक के कारण शोर हो इसलिए बिल्डिंग के अंदर एलिवेटर लगे हुए हैं और हाईवे बिल्डिंग को नही छूता है।

इस इमारत को दुनिया के मशहूर इंजीनियर अजूसा सेकेई और यमातो निशिहारा के द्वारा डिजाइन किया गया है। इस गोलाकार इमारत से हाईवे सटा हुआ है। वहीं इस हाईवे का ब्रिज इसको सहारा देता है।

इसके अलावा इस तरह का स्ट्रक्चर डिजाइन किया गया है जिससे कि गाड़ियों का शोर बिल्डिंग के अंदर न जाए। इसका डिजाइन इस तरह से बनाया गया है कि रात के सन्नाटे में भी तेज रफ्तार की गाड़ियों की आवाज नही सुनाई देती है।

हाईवे प्रबंधन देता है किराया

इस इमारत के बनने की कहानी भी काफी मजेदार है गेट टावर बिल्डिंग (Gate Tower Building) के एक जमीन के बीच चले केस के सुलह का नतीजा है। दरअसल यहां पर पहले बिल्डिंग बननी थी। जिसका डिजाइन 1982 में ही फाइनल में था,

औऱ बिल्डिंग बनाने के मालिक को नही पता था कि यहां पर हाईवे का प्लान पहले ही बन चुका है इसके बाद बिल्डिंग के बनने पर रोक लग गई लेकिन इमारत का मालिक इसको मानने के लिए बाध्य नही था। और यह कोर्ट केस में बदल गया, और करीब 5 साल तक यह केस चलता रहा।

हाईवे के बनने में देरी न हो इसलिए प्रशासन के द्वारा तय किया गया कि उसका हक उसे दे दिया जाए। और मालिक भी राजी हो गया प्लॉट से होते हुए हाईवे निकलेगा। इसके बाद हाईवे को इसका किराया देना पडता है।

जरुर पढ़े:- देश के इस शहर में दिल के आकार में जलती दिखती हैं ट्रैफिक लाइट, इसके पीछे है यह खास वजह

जल्द ही बंद हो सकता है Apple कंपनी का यह Smartphone, जानिए क्या है इसका कारण?

LIC की यह पॉलिसी रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी बदल देगी, इसमें जिंदगीभर पैसा मिलेगा, देखें डिटेल

सरकार ने उठाया यह बड़ा कदम! इन किसानों पर होगा मुकदमा, नही आएगा 12वीं किस्त का पैसा