यदि आपके पास हैं 5 Rupee का यह नोट, तो आप भी बन सकते हो मालामाल, जानिएं तरीका

Rupee

नई-दिल्ली। अगर आपके पास 5 Rupee का यह पुराना नोट पड़ा है तो आपके पास एक बहुत ही खूबसूरत मौका है जिसमें आप घर बैठे इसके एवज में काफी ज्यादा पैसे कमा सकते हैं। यह सुनने में थोड़ा अजीब लग सकता है कि 5 Rupee में 30000 Rupee कैसे मिल सकते हैं,

लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें हैं। इस 5 Rupee के नोट में ट्रैक्टर छपा होना चाहिए। लेकिन यह बात 100% सच है। कुछ ही मिनटों में आप घर बैठे इसके एवज में इतनी बड़ी रकम प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आपको कहीं जाने की जरूरत भी नहीं है।

आप केवल दो वेबसाइटों पर जा सकते हैं। वहां आपको जानकारी मिल जाएगी, कि आपको किस वेबसाइट पर ज्यादा ऑफर्स मिल रहे हैं। लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें हैं। इस पांच रुपये के नोट में ट्रैक्टर छापना चाहिए। यह नोट भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किया जाना चाहिए।

साथ ही उस पर 786 नंबर लिखा होना चाहिए। अगर आपके पास इस फीचर वाला नोट है तो आप ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर जाकर उसकी बोली लगवा सकते हैं, जिसमें आपको कई गुना पैसा मिलने की पूरी संभावना है। CoinBazar पर जाकर इस नोट को कैसे बेचें।

सबसे पहले आपको Coinbazaar.com पर जाना होगा। आपको वेबसाइट पर एक विक्रेता के रूप में पंजीकरण करना होगा। अपने नोट की एक फोटो लें और इसे वेबसाइट पर अपलोड करें। इसमें रुचि रखने वाले लोग स्वयं आपसे संपर्क करेंगे।

उसके बाद आप उनसे बात करके अपना नोट बेच सकते हैं। अगर आपके पास एक रुपये का भी नोट है तो आप Coinbazaar पर जाकर उसे बेचकर 45000 Rupee कमा सकते हैं. हालांकि उनके लिए एक शर्त है कि एक रुपये के नोट पर RBI गवर्नर एपएम पटेल के हस्ताक्षर होने चाहिए,

और उसका नंबर 123456 होना चाहिए। इस प्लेटफॉर्म पर 1 Rs के नोट की कीमत 49,999 Rupee रखी जा रही है। हालांकि डिस्काउंट के बाद इसकी कीमत 44,999 Rupee रखी गई है. आज से 26 साल पहले भारत सरकार ने एक रुपये के नोट की छपाई पर रोक लगा दी है.

वर्ष 2015 में इसकी छपाई फिर से शुरू हुई और एक रुपये का नोट फिर से बाजार में चलन में आया। हालांकि, कई लोगों के पास एक Rupee के पुराने नोट पड़े हैं, जिन्हें वेबसाइट पर जाकर और अधिक पैसा कमाकर बेचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Dealer यदि दे रहा हैं कम राशन तो इन नंबरो पर कर सकते हैं शिकायत, होगी कार्यवाही

South Africa में महात्मा गांधी की परपोती को सुनाई 7 साल की सज़ा, धोखाधड़ी का आरोप