मुक्तिधाम मालवा मील इंदौर के परिसर में, नवजातों को नौंच रहे है सुअर

मुक्तिधाम शवों नवजात श्वान मालवा

इंदौर. पिछले दिनों सरकारी अस्पतालों में शवों के साथ हुई दुर्दशा के कारण शहर को शर्मसार होना पड़ था, लेकिन एक बार फिर सरकारी व्यवस्था को तमाचा मारने वाली एक तस्वीर सामने आई है। ये वो तस्वीर है, जिसे हम किसी भी हाल में लोगों को नहीं दिखाना चाहते,

लेकिन यह तस्वीर खुद जिम्मेदारों को आईना दिखा रही है। स्थिति यह है कि शव ना अस्पताल में सुरक्षित है और ना ही श्मशान में। दरअसल, शहर के मालवा मील मुक्तिधाम परिसर में एक नजवात को दफनाया गया था.

लेकिन अव्यवस्था के बीच आवारा श्वान कब्र खोदकर मासूम को नोच रहा था। हालात यह थे कि नवजात का आधा धड़ कब्र के बाहर पड़ा था। ऐसे अमानवीय दृश्य की ओर मुक्तिधाम प्रबंधन ने भी ध्यान नहीं दिया।

जब चौकीदार से इस मामले में शिकायत की तो उसका जवाब था कि आए दिन इस तरह से नवजात के शवों को श्वान नोचते रहते हैं। अब इस गैर-जिम्मेदाराना अव्यवस्था की जवाबदारी कौन लेगा?

यह हदय विदारक तस्वीर हमने जिम्मेदारों की आंखें खोलने के लिए प्रस्तुत की है। बड़ी बात यह है कि इस लापरवाही के लिए कोई भी जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है। इसको लेकर पहला जिम्मेदार मुक्तिधाम का चौकीदार संजय खल्लाते हैं,

जिसका कहना कि वह कई बार इसकी शिकावत कर चुका है, लेकिन नगर निगम के जिम्मेदारों ने कोई कार्यवाही नहीं की। दूसरा जिम्मेदार मुक्तिधाम मैनेजर गुलाब खान है, जिसका कहना है, कि चौकीदार की सुचना पर मैंने आवारा श्वान पकड़ने की टीम सक्रिय कर दी है,

जो मालवा मील क्षेत्र के तमाम आवारा श्वानों को पकड़ लेगी। तीसरे जिम्मेदार हैं नगर निगम का स्वास्थ प्रभारी डॉ. अखिलेश उपाध्याय का कहना है कि में पता करता हूं कि इसका जिम्मेदार कर्मचारी और अधिकारी कौन है।

जिम्मेदारों पर होना चाहिए कड़ी कार्रवाई

परिवार में जन्मे एक मृत नजजात को दफनाने पहुंचे परिजन का कहना है कि मृत नवजात को दफनाने हम मालवा मील मुक्तिधाम गए थे, जहां बच्चे को दफनाना था, लेकिन यहां पर एक नवजात का यह शव देखने को मिला, जिसे देखकर हर कोई खून के आंसू रो पड़ा। यह एक गंभीर लागरवाही है, जिसके जिम्मेदारों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही होना चाहिए।

देखिये मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का काला पतित चेहरा