इंदौर: दूध फाड़ने के लिए एसिटिक एसिड का उपयोग करने वाली दो डेयरी पर प्रशासन के छापे

दूध डेयरी

मध्य प्रदेश इंदौर. जिला प्रशासन इंदौर ने गुंडों और खनन माफियाओं के साथ मिलावट करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू की है। कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देश पर मंगलवार को प्रशासन और खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम ने पोलो ग्राउंड में पनीर, मावा, क्रीम और मिठाई बनाने वाली दो डेयरी पर छापा मारा।

ऐसा पदार्थ दबिश में पाया गया, जो हमें कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी दे सकता है। टीम ने यहां से बड़ी संख्या में ऐसे रासायनिक और मिलावटी सामग्री को जब्त किया है। दबिश में सद्गुरु डेयरी और मायाराम डेयरी में बड़ी अनियमितताएं सामने आई हैं।

फैक्ट्री परिसर के अंदर और बाहर गंदगी पाई गई। यहां दूध फाड़ने के लिए एसिटिक एसिड का इस्तेमाल किया जा रहा था। दोनों फैक्ट्रियों से एसिड से भरे 70 लीटर के डिब्बे जब्त किए गए हैं। यह एसिड स्वास्थ्य के लिए भी बेहद हानिकारक है,

जिससे कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी हो सकती है। अतिरिक्त कलेक्टर अभय बेडेकर ने मौके पर सभी खाद्य पदार्थों के नमूने भी लिए और एसिटिक एसिड सहित अन्य सामग्री जब्त की।

इसके अलावा, मानक डेयरी पर पास में कार्रवाई के दौरान 110 लीटर नियंत्रण नीले केरोसिन को भी जब्त किया गया। यह केरोसिन गरीबों को वितरित किया जाना था, लेकिन नियंत्रण ऑपरेटरों की मिली भगत से यह कारखानों तक पहुंच गया।

प्रशासनिक टीम ने नीले केरोसिन को भी जब्त किया है। टीम ने खाद्य पदार्थों का उत्पादन करने वाली इन फैक्ट्रियों में भी गंदगी पाई है। टीम से रिपोर्ट मिलने के बाद कलेक्टर द्वारा रासुका की कार्रवाई भी दोषियों के खिलाफ की जा सकती है।

यह भी पढ़े: CM शिवराज की पत्नि साधना, एक ट्विटर user की कविता उठाने को लेकर, हुई ट्विटर पर ट्रोल

मानसिक रूप से विकलांग नाबालिग लड़की से पारिवारिक मित्र ने किया बलात्कार

प्रेग्नेंट अनुष्का शर्मा का पति विराट कोहली के साथ अद्भुत शीर्षासन योगा