पुलिस से उम्मीद करना कि, वह लड़कियों के साथ होने वाले अपराधों को रोके, हमारी मूर्खता होगी

पुलिस अपराधों  लड़कियों

प्रदीप मिश्रा री डिस्कवर इंडिया. पुलिस से यह उम्मीद करना की वो भारत के समाज से नाबालिको, लड़कियों और महिलाओं के साथ किए जाने वाले जघन्य यौन अपराध, घरेलू हिंसा व अन्य पारिवारिक अपराध को रोके तो यह हमारी मूर्खता होगी!

समाज और परिवार जनों द्वारा किए जाने वाले लोमहर्षक और जघन्य अपराधों के अपराधियों को भयानक और क्रूरतम सजा दी जाएगी का व्यापक पैमाने पर प्रचार प्रसार आवश्यक है! आज कल भारतीय समाज में बहुत बड़ी तादाद में अपराधी आप के आसपास, दोस्तों, रिश्तेदारों, सगे संबंधियों और परिवारजनों के बीच से ही आ रहे हैं!

और जब बच्चों, नाबालिको, लड़कियों और महिलाओं के साथ मारपीट, घरेलू हिंसा, योन, लेंगीक और बलात्कार जैसे अपराध मे तो 100 फीसदी अपराधी पीड़ित के बहुत करीब का परिचित होता है! ऐसे अपराधों के लिये पुलिस को दोषी ठहराना पूर्णतया मूर्खता वाली बात होगी!

ऐसे अपराधों को रोकने के लिए समाज में ऐसे अपराध करने वालों को कितनी क्रूर और भयानक सजा मिलेगी उसका डर होना आवश्यक है! और उस सजा का व्यापक प्रचार और प्रसार आवश्यक है! यदि किसी भी लड़के या व्यक्ति ने किसी भी लड़की या महिला के साथ मारपीट या बलात्कार किया,

तो उसे फांसी की जगह जिंदा जला दिया जाएगा!
उसका मकान तोड़ दिया जाएगा! उसके परिवार की सम्पूर्ण संपत्ति दुकान, प्लॉट, खेती की जमीन, सोना, चांदी, बैंक मे जमा नकदी, वाहन आदि को जब्त कर लिया जाएगा!

के पूरे देश में बड़े बड़े होर्डिंग लगाओ और रेल्वे स्टेशन, बस स्टैंड, गाओ, कस्बों, तहसीलों, जिला मुख्यालयों, ग्राम पंचायतों, सिनेमा हॉलो, टी वी हर जगह पर बड़े पैमाने पर प्रचार अभियान सरकार, पुलिस विभाग, राजनीतिक पार्टियों के संगठनों, पदाधिकारियों, चुने हुए जन प्रतिनिधियो के अलावा सामाजिक संगठनों को चलाना पड़ेगा!

खासकर गरीब बस्तियों और झुग्गी झोपड़ीयो मे पुलिस का मार्च पास्ट और महिलाओं के साथ अपराध और घरेलू हिंसा के मामले मे सख्त चेतावनी हर जगह पर बड़े पैमाने पर चलाना पड़ेगा!

यदि कोई भी व्यक्ति, या परिवार का कोई सदस्य किसी भी लड़की या महिला के साथ किसी भी तरह की घरेलू हिंसा, मारपीट, बलात्कार या अन्य कोई अपराध करता है तो जब तक न्यायालय मे मुकदमा चलता है उसको सरकार द्वारा दी जाने वाली सभी सब्सिडी, लाभ, और सरकारी योजनाओं से मिलने वाले समस्त लाभों से वंचित कर देना चाहिए!

यह भी पढ़ें: इंदौर के प्राइवेट अस्पताल में हो रही लापरवाही, I.C.U. में कर रहे B.H.M.S. डॉ. ड्यूटी