मध्यप्रदेश: एक वर्ष बाद सास सावित्री का हत्यारा गिरफ्तार, ऐसे उतारा था मौत के घाट

सास सावित्री

खरगोन. भीकनगांव (हर्षराज गुप्ता) थाना भीकनगांव जिला खरगोन क्षेत्रान्तर्गत मृतिका सावित्री बाई पति रामसिंग जाति भील उम्र 60 वर्ष निवासी सेल्दा की मृत्यु दिनांक 09-10-2019 को ग्राम सेल्दा पर संदिग्ध अवस्था में हुई थी।

मृतिका की मृत्यु के पश्चात मृतिका का पी.एम. कराया गया था। दिनांक 10-10-2019 की सुबह आठ बजे सूचनाकर्ता दयालु, ग्राम के सरपंच देवराम को साथ लेकर थाना भीकनगांव में मृतिका की मृत्यु होने की सूचना पर थाना भीकनगांव में मर्ग क्रमांक 82/19 धारा 174 जा.फौ. का कायम कर जांच में लिया गया।

मामले की जांच में पी.एम. रिपोर्ट एवं एफ.एस.एल. जांच रिपोर्ट पश्चात पी.एम. कर्ता डॉक्टर के द्वारा मृतिका की मृत्यु मुँह दबाने एवं दम घुटने से होने के अभिमत के आधार पर थाना भीकनगांव में अपराध क्रमांक 473/20 धारा 302 भादवि का दिनांक 23-10-20 को पंजीबद्ध कर अनुसंधान में लिया गया था।

हत्या का प्रकरण महिला से संबंधी एवं गंभीर प्रवत्ति का होने से पुलिस अधीक्षक खरगोन शैलेन्द्र सिंह चौहान के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) खरगोन जितेन्द्र सिंह पंवार एवं अनुविभागीय अधिकारी भीकनगांव, प्रवीण कुमार उईके के मार्गदर्शन अनुसार,

थाना भीकनगॉव पर उक्त मामले का अनुसंधान एवं आरोपी की गिरफ्तारी हेतु थाना प्रभारी भीकनगाँव जगदीश गोयल के नेतृत्व में पुलिस टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम में सउनि हराप्रसाद पाल, आरक्षक 47 हीरालाल कास्डे, आरक्षक 07 ईसराम को पुलिस टीम में शामिल कर आरोपी की पतारसी हेतु लगाया गया।

मृतिका के मृत्यु के संबंध में वैज्ञानिक पद्दति से जॉच किये जाने तथा फोरेन्सिक जॉच रिपोर्ट आदि प्राप्त किये जाने पर मृतिका की मृत्यु के कारणों व वस्तु स्थिति का पता चला । मृतिका कि मृत्यु की फोरेन्सिक जॉच रिपोर्ट दिनांक 08-09-2020 को प्राप्त होने के उपरांत अनुसंधान की गति में तेजी आई.

तथा विभिन्न गवाहों एवं परिस्थिति जन्य प्रमाणों के आधार पर आरोपी राजु की भूमिका संदिग्ध पाई जाने पर उससे पूनः पुछताछ की गई । पूछताछ के दौरान आरोपी राजु द्वारा अपनी सास सावित्री बाई की हत्या करना व घटना कारित किया जाना स्वीकार किया गया.

तथा मृतिका के हाथ के कडें ले जाकर बाजार में गिरवी रखे जाने की बात बताई गई । जिसकी अनुसंधान में गंहनता से जॉच किये जाने पर मृतिका सावित्री बाई के कडें पुलिस द्वारा बरामद किये गये तथा आरोपी की निशादेही पर विधिवत जप्त किये गये।

आरोपी राजु जाति भील पूर्व में मैजिक वाहन इन्दौर में चलाता था, जो बाद में ट्रक चलाने लगा। आरोपी राजु की सास मृतिका सावित्री बाई आरोपी के साथ ही रहती थी, आरोपी की पत्नि बच्चों को लेकर कही चली गई थी। घटना दिनांक को आरोपी राजू जब ड्राइवरी के काम पर से उसके घर आया,

तो उसने उसके घर में रह रही स्वयं की सास को अपनी पत्नि व बच्चों का पता व उनको बुलाने की बात कही, जिस पर से उसकी सास ने उनकी जानकारी नहीं होना बताया और इस बात पर से राजु का उसकी सास सावित्रि बाई से विवाद हो गया,

जिसमें राजु द्वारा उसकी सास के साथ मारपीट कर उसका मुँह और नाक दबाकर उसकी हत्या कर दी । उसके बाद आरोपी राजु उसकी सास सवित्री बाई के हाथ के कडें लेकर फरार हो गया । सावित्रि बाई की मौत की खबर उसके आस-पास रहने वाले उसके रिश्तेदारों को सुबह उसके घर देखने पर लगी,

जिस पर से संदिग्ध परिस्थितयों में मृत्यु होने पर मर्ग दर्ज कर जॉच प्रारम्भ की गई । उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी भीकनगॉव जगदीश गोयल, सउनि हरिप्रसाद पाल, आरक्षक क्रमांक 47 हीरालाल कास्डे, आरक्षक 07 ईसराम का विशेष योगदान रहा.

आयुर्वेद विश्व की गौरवशाली चिकित्सा पद्धति होगी!