मुख्यमंत्री कन्यादान योजना: पैसों की लालच में, सम्मेलन में बहू का करवाया फर्जी निकाह

फर्जी निकाह

  • मुख्यमंत्री कन्या दान योजना के गढाकोटा सम्मेलन मै हुआ फर्जी निकाह.
  • सोनम बी व इरफान के फर्जी निकाह का मामला.
  • सही जांच होने पर कई निकाहो का उजागर होगा फर्जी वाडा.

सागर – सागर जिले की देवरी तहसील के संजय नगर के झुनक ग्राम पंचायत की महिला सोनम बी पिता रहमान खान जिसकी उम्र करीब 23 वर्ष है, जिसका निकाह गढाकोटा के जवाहर वार्ड निवासी इरफान खान पिता रहीम खान से देवरी निवासी सोनम बी से 20 अप्रैल 2017 को हुआ था.

जिसमे लड़की के पिता द्वारा अपनी बच्ची की शादी के लिये घर बेचकर और करीब 5 लाख कर्ज कर निकाह किया था, कुछ दिन बाद से ही ससुराल के परिवार व पति द्वारा पैसो के लालच मै आकर गढाकोटा मै मुख्यमंत्री कन्या दान योजना के तहत केबिनेट मंत्री गोपाल भार्गव द्वारा जो सम्मेलन किया जाता है,उसके अंतर्गत महिला सोनम बी का सम्मेलन मै पुनः दूसरा निकाह करा दिया गया, जिससे सम्मेलन में शासन द्वारा मिलने वाली रकम व सामग्री मिल सके. क्या गढाकोटा मै होने वाले हजारो निकाह व विवाह इस मामले के संज्ञान व उजागर होने पर जांच का बिषय बनता है,

कि इस मामले जैसे कई मामले और होगे, जो फर्जीवाडे से योजना मै जोड़कर पैसे के लालच मै शासन से पैसा वसूलते है. कई अधिकारियों के इस फर्जीवाडे मै शामिल होने की आशंका है, और सभी की मिली भगत से शासन की योजना को चूना लगाकर राशि का फायदा लिया जा रहा है.

इसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी किसकी है शासन की या अधिकारी कर्मचारी के साथ जनप्रतिनिधि की जो फर्जी तरीके से निकाह करते है. और जरूरतमंद व्यक्ति योजना का लाभ नही ले पाता, खुले आम सम्मेलन का भ्रष्ट्राचार उजागर होता नजर आ रहा है.

सोनम बी ने स्वयं स्वीकार करते हुये मीडिया से कहा कि उनके पति मंत्री जी के साथ रहते है और उनके करीबी होने के कारण उनका दूसरा विवाह सम्मेलन से किया गया। जिसमे फर्जी तरीके से निकाह करते हुये पैसा वसूला गया. जिसकी जांच कर परिवार व सम्बंधित अधिकारी पर सख्त कार्यवाही की मांग करती हूँ.जिससे महिलाओ के साथ उनके परिवार वाले कभी ऐसे लालच मै आकर पुनः उनका निकाह न करे, शासन की करोडो रुपये की राशि ऐसे ही नेताओ अधिकारीयो के चहेते लोगो को लाभ दिलाकर राशि मै चुना लगाया जाता है। और जनप्रतिनिधि अधिकारी मंचो पर बडी-बडी ईमानदारी की बाते करते नजर आते है,

जबकि भ्रष्ट्राचार साफ नजर भी आने के बाद भी चुप्पी साधते है अधिकार के पात्र लोगो को नियम कानून बताते है, और अपात्र को सही पात्र बनाकर फर्जी निकाह या विवाह करवाते है, इसकी उच्च स्तरीय जांच होना चाहियेl

सोनम बी पीडिता ने कहा कि महिला उनका दूसरा निकाह पैसो के लालच मै आकर ससुराल पक्ष दारा कराया गया था, मैने जब कहा कि एक बार निकाह हो चुका है तो फिर से निकाह क्यों?, तो पति व परिवार द्वारा तलाक की धमकी दी गई थी.

तो मै विवश हो गई थी, और हम दोनो का दूसरा निकाह कर लिया था, वही लड़की की माता समीना बी ने कहा कि उन्होंने बच्ची की शादी करीब 5 लाख रुपए का कर्ज कर व घर बेचकर की, फिर भी लड़की के ससुराल वालो ने मेरी लड़की का फर्जी तरीके से, दबाव बनाकर दूसरा निकाह सम्मेलन मै कराया था. हम लोगो को सम्मेलन के दिन पता लगा कि बच्ची का पुनः निकाय किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: Cars24: सबसे सस्ते में यहां मिल रहीं पुरानी Cars, बचाएं अपने पैसे