खुशखबरी: अब बिना टेस्ट दिए बनेगा Driving License, नहीं लगाने पड़ेंगे RTO के ​चक्कर

Driving License

Driving License New Rule. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने मान्यता प्राप्त चालक प्रशिक्षण केंद्रों के लिए नियमों को अधिसूचित कर दिया है। इन केंद्रों पर उम्मीदवारों को उच्च गुणवत्ता वाले ड्राइविंग प्रशिक्षण और शिक्षा प्रदान की जाएगी। इनमें टेस्ट में सफल होने वाले,

अभ्यर्थियों को Driving License प्राप्त करते समय दोबारा ड्राइविंग टेस्ट नहीं देना होगा, उन्हें इससे छूट दी जाएगी। मंत्रालय ने कहा कि इन केंद्रों में प्रशिक्षण के लिए सभी सुविधाओं के साथ ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक होगा जिससे,

उम्मीदवारों को उच्च गुणवत्ता वाला प्रशिक्षण उपलब्ध कराया जा सकेगा. मंत्रालय ने कहा कि मोटर वाहन अधिनियम, 1988 के तहत इन केंद्रों पर ‘उपचारात्मक’ और ‘पुनश्चर्या’ पाठ्यक्रम उपलब्ध कराए जाएंगे।

अगले महीने से लागू होंगे नए नियम

मंत्रालय ने मान्यता प्राप्त ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्रों के लिए अनिवार्य नियमों को अधिसूचित किया है। ये नियम 1 जुलाई 2021 से लागू होंगे। इन केंद्रों पर नामांकन करने वाले उम्मीदवारों को पर्याप्त प्रशिक्षण और जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी।

इन केंद्रों पर आयोजित होने वाली परीक्षा को सफलतापूर्वक पास करने वाले उम्मीदवारों को क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (RTO) में Driving License के लिए ड्राइविंग टेस्ट देने की आवश्यकता नहीं होगी।

परीक्षण के लिए बाइक या कार ले जाने की आवश्यकता नहीं है

मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि ऐसे मान्यता प्राप्त प्रशिक्षण केंद्रों से ड्राइविंग का प्रशिक्षण लेने के बाद ड्राइवरों को Driving License हासिल करने में मदद मिलेगी. इसका मतलब यह है कि अब आपको Driving License से पहले न तो अपनी,

बाइक या कार को टेस्ट के लिए ले जाना होगा और न ही गलती होने पर परीक्षा देने वाले अधिकारियों से अनुरोध करना होगा। इसमें सिर्फ उन्हीं ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटरों की पहचान होगी जो किस जगह, ड्राइविंग ट्रैक हैं।

आईटी और बायोमेट्रिक सिस्टम और निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुसार प्रशिक्षण आवश्यकताओं को पूरा करेंगे। Training Center द्वारा Certificate जारी होने के बाद Related Motor Vehicle License अधिकारी के पास पहुंच जाएगा।

यह भी पढ़ें: Immune System को कमजोर करके शरीर को बीमार कर देती हैं रोजाना खाने वाली ये 5 चीजें