प्रशासनिक संकुल में आने वाले अफसरों का नहीं जांचा जा रहा तापमान, कलेक्टर ने मानी चूक

जांच

इंदौर. इंदौर शहर में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं, इसके पीछे लापरवाही को सबसे बड़ा कारण बताया जा रहा है। यह लापरवाही आम जन ही नहीं अफसरों द्वारा भी बरती जा रही है।

दरअसल, जिस प्रशासनिक संकुल से जनता की सुरक्षा के लिए नियम-कायदे तय किए जाते हैं.वहां कोविड-19 के नियमों की अनदेखी वाली यह तस्वीर अच्छी नहीं है। इस कोरोना काल में जिला प्रशासन ने कई दुकानों होटलों,

यहां तक कि राह चलते नागरिकों तक को नियमों के पालन करने का ‘डोज’ दिया और सख्ती कर जुर्माना तक वसूला, लेकिन कलेक्टर सभागृह में आने वाले अफसरों की गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग ही नहीं हो रही,

और ना ही सैनिटाइज की व्यवस्था की गई। हालांकि कलेक्टर ने इस अव्यवस्था को चूक माना है। कलेक्टर सभागृह की ओट जाने वाले ठोट पट लगे टेबल पट कोई भी कर्मचारी तापमान जाचने के लिए मौजूद नहीं था।

यह भी पढ़ें: 28 साल बाद, बाबरी मस्जिद विध्वंस पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, सभी आरोपी बरी