दीपावली पर बिजली कर्मियों की खुशियों पर छलावा, बोनस पर कुंडली मारकर बैठे है अधिकारी

बोनस बिजली

भोपाल। दीपावली पर्व पर बिजली कर्मियों की खुशियों पर बिजली प्रबंधन का छलावा जारी, विगत 3 वर्षों से कार्मिकों के बोनस भुगतान पर कुंडली मारकर बिजली वितरण कंपनी प्रबंधन के अधिकारी बैैठे है।

मध्य प्रदेश की विद्युत वितरण कंपनियों सहित सभी बिजली वितरण कंपनियों के कर्मचारी, जिनकी सैलरी 21,000 रुपये मासिक से कम है, वे दीपावली पर मिलने वाले बोनस की विगत 3 वर्षों से राह देख रहे हैं, लेकिन अभी तक किसी भी विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंधन ने अपने कर्मियों की सुध नहीं ली है।

विद्युत कंपनियों के प्रबंधन की असंवेदन शीलता एवं हठधर्मिता के चलते प्रदेश के हजारों विद्युत कर्मी खुशियों के त्यौहार पर मिलने वाले बोनस जैसी खुशी से वंचित हैं जो उनका जायज़ एवं वैधानिक अधिकार है, जिससे उनमें आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

विदित हो कि एक ही प्रदेश के ऊर्जा विभाग में छह कंपनियां हैं जो वर्तमान समय में अपनी अपनी मनमर्जी एवं सुविधा के अनुसार कार्य कर रही हैं, इससे यह स्पष्ट है कि ऊर्जा विभाग के जिम्मेदारों का कर्मचारी हितैषी नीतियों पर कोई भी ध्यान नहीं है,

जो ऊर्जा विभाग तथा श्रमकानूनों के दिशा-निर्देशों का खुला उल्लंघन है। जबकि संगठनों द्वारा निरंतर इस बात पर उनका ध्यान केंद्रित कराने का प्रयास किया जाता रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश की एमपी पावर मैनेजमेंट एवं ट्रांसमिशन कंपनी ने अपने कर्मियों को बोनस देने की आदेश जारी कर दिए हैं।

आदेश में बोला गया था कि दीपावली के पूर्व अनिवार्य रूप से बोनस दे दिया जाए। वहीं अभी तक अन्य किसी भी विद्युत कंपनी के प्रबंधन ने ऐसा कोई आदेश जारी नहीं किया हैं। जबकि पांच दिवसीय दीपावली के त्यौहार का आज से आरंभ हो चुका है।

आज धनतेरस होने के कारण विद्युतकर्मी खरीदारी के लिए बोनस की राह देख रहे हैं। लेकिन अभी तक बोनस नहीं मिलने से विद्युत कर्मचारी मन मसोसकर रह गए हैं। विद्युत अधिकारी कर्मचारी कल्याण संघ – इंदौर के अध्यक्ष प्रदीप कुमार द्विवेदी ने बताया कि,

हिंदुओं के सबसे बड़े त्यौहार दीपावली पर साल में एक बार मिलने वाले बोनस को देने के लिए विद्युत कंपनी प्रबंधन हर बार आनाकानी करता आया है जबकि इन्हीं कर्मचारियों के बल पर पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी प्रदेश की समस्त बिजली कंपनियों का सिरमौर बना हुआ है।

कल्याण संघ के क्षेत्रीय सचिव धर्मेंद्र मालवीया ने बताया कि इस बार भी मध्य प्रदेश पावर मैनेजमेंट कंपनी तथा पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के अलावा किसी भी विद्युत कंपनी ने बोनस देने के आदेश अभी तक जारी नहीं किए हैं। इससे कर्मचारियों में बहुत ज्यादा आक्रोश है।

उन्होंने कहा कि विद्युत अधिकारी कर्मचारी कल्याण संघ पूर्व से ही पत्र लिखकर विद्युत कर्मियों के लिए बोनस की मांग करता रहा है, लेकिन विद्युत कंपनियों के प्रबंधनों की अभी भी नींद ही नहीं खुली, यदि बोनस भुगतान के संबंध में वितरण कंपनी द्वारा,

जल्द आदेश जारी कर विगत वर्षों के एरियर सहित भुगतान नहीं किया गया, तो संगठन द्वारा त्वरित रणनीति बनाकर आंदोलनात्मक रुख़ अपनाने पर बाध्य होना पड़ेगा जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी कंपनी प्रशासन की होगी।

यह भी पढ़ें:

फिलीपींस बनेगा ब्रह्मोस क्रूज मिसाइलों को भारत से लेने वाला पहला ग्राहक

वित्त मंत्री सीतारमण ने आत्मनिर्भर 3.0 किया घोषित, नई रोजगार योजना बनी आकर्षण का केंद्र