पं. प्रदीप मिश्रा ने इस MP के इस शहर की महिलाओं पर दिया विवादित बयान, बहिष्कार और माफ़ी मांगो की उठी मांग, जानें मामला

Pandit Pradeep Mishra

Follow Us On Google News

भोपाल। हमेशा अलग-अलग वजहों से सुर्खियों में रहने वाले कथाकार Pandit Pradeep Mishra के बयान इस बार एक नए विवाद का कारण बने हैं. 26 सितंबर से मंदसौर में शिव महापुराण करने जा रहे प्रदीप मिश्रा के इस शहर को लेकर किए गए बयान से बवाल हो गया है.

Pandit Pradeep Mishra ने मंदसौर में शिवपुराण शुरू करने से पहले अशोक नगर जिले में हुई कथा में कहा कि मंदसौर शिवपुराण की कथा का नाम मंदोदरी रखा गया है, ताकि शिव भक्त मंदोदरी के नाम पर कम से कम उस क्षेत्र की बेटियों का विकास हो सके, वे सुधर जाए और उस क्षेत्र की बेटियां देह का धंधा छोड़ सके।

उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मंदसौर के लोगों ने नाराजगी जताई और पंडित प्रदीप मिश्रा से कहा कि उनका बयान मंदसौर की महिलाओं का अपमान है, जिसके लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए.

क्या कहा Pandit Pradeep Mishra ने

एक धार्मिक चैनल पर मंदसौर में होने जा रहे शिव पुराण की कथा का जिक्र करते हुए पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा कि मंदोदरी शिव पुराण की कथा को मंदसौर में रखा गया है. इसलिए इसका नाम मंदोदरी पड़ा। क्योंकि मंदोदरी माता, एक सती और एक शिव भक्त मंदोदरी के नाम पर कम से कम उस क्षेत्र की बेटियां तो सुधर सके और उस क्षेत्र की बेटिया देह का धंधा छोड़ सके।

मंदसौर से माफी मांगें पंडित जी

सोशल मीडिया पर वायरल हुए पंडित प्रदीप मिश्रा के इस वीडियो के बाद मंदसौर के लोग नाराजगी जता रहे हैं, इस पर पंडित प्रदीप मिश्रा सवाल उठा रहे हैं. देश में मशहूर हुई मंदसौर की इस पहचान को पंडित प्रदीप मिश्रा को बताने वाले पशुपतिनाथ के लिए।

नीमच बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष प्रीति बिड़ला ने मांग की है कि मंदसौर की बेटियों ने जिस तरह से अपनी बहनों का अपमान किया है, उसके लिए पंडित प्रदीप मिश्रा को माफी मांगनी चाहिए और अपनी बात वापस लेनी चाहिए.

कथा का बहिष्कार करें साधु संत

पंडित प्रदीप मिश्रा के इस बयान को लेकर संतों में आक्रोश है. पीठाधीश्वर स्वामी कृष्णानंद ने कहा है कि अगर पंडित जी को उस जगह का इतिहास नहीं पता है जहां वे कथा करने जाते हैं तो वहां के लोगों से पूछिए, लेकिन पंडित प्रदीप मिश्रा ने मंदसौर की गलत पहचान देने के साथ ही मातृ शक्ति का अपमान किया है. उन्होंने संत-संत और पूरे मंदसौर से प्रदीप मिश्रा की कहानी का बहिष्कार करने की अपील की है.

पंडित मिश्रा ने नहीं दिया जवाब

इस मामले में जब पंडित प्रदीप मिश्रा का पक्ष जानने की कोशिश की गई तो उन्होंने इस विषय में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया, लेकिन जानकारी के मुताबिक वह इस विवाद से पूरी तरह वाकिफ हैं.

जरूर पढ़े: ऐसे पतियों से हमेशा संतुष्ट रहती हैं पत्नियां, मरते दम तक देती हैं उनका साथ

Instagram ने जारी किया नया फीचर, अब इंस्ट्राग्राम भी नही देख पाएगा आपकी ये पर्सनल चीजें

पिछला लेखऐसे पतियों से हमेशा संतुष्ट रहती हैं पत्नियां, मरते दम तक देती हैं उनका साथ
अगला लेखअब एक जगह से घर के कोने-कोने पर निगरानी रखेगा यह सस्ता कैमरा, अधेंरे में भी रिकॉर्ड करेगा HD क्वालिटी वीडियों
ध्रुववाणीन्यूज़डॉटकॉम एक हिंदी न्यूज वेबसाइट हैं जिसकी शुरुआत वर्ष 2020 में की गई थी। यह एमपी के बड़वाह से प्रकाशित लोकप्रिय दैनिक समाचार पत्र ध्रुव वाणी की आधिकारिक वेबसाइट हैं, हमारी टीम प्रति-दिन देश और दुनिया की ताज़ा खबरें हिंदी भाषा में उपलब्ध कराती है। समाचारों के अलावा हम नौकरी, व्यापार, स्वास्थ्य, तकनीकी आदि से जुड़ी जानकारियां भी वेबसाइट पर अपडेट करते हैं, जिससे पाठको को उनके रुचि के अनुसार सभी प्रकार की जानकारी मिलती रहे। हमारा उद्देश्य हैं जनता को उनके अधिकारों और हितों के प्रति जागरूक करना, साथ ही दुनिया भर के हिंदी भाषी लोगों तक हिंदी मे सही जानकारी उपलब्ध कराना भी है। हम पिछले 17 वर्षो से हमारे दैनिक समाचार पत्र ध्रुव वाणी और पिछले 2 से अधिक वर्षो से ध्रुववाणीन्यूज़ के माध्यम से अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए निरंतर प्रयासरत हैं।