किसानों की बल्ले-बल्ले, सोलर पंप के लिए सरकार दे रही है 100 फीसदी सब्सिडी, ऐसे करें आवेदन

Solar Pump Scheme

Solar Pump Scheme: देश में किसान को खेती में जो सबसे बड़ी परेशानी है वो है सिंचाई। किसान के पास आज भी पर्याप्त सिंचाई के साधन उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि किसान के पास सिंचाई के लिए पेट्रोल-डीजल वाले पंप उपलब्ध हैं। इससे होता यह है कि किसान को खेती का लागत ज्यादा आती है। हालांकि इस समस्या को सोलर पंप से दूर कर सकते हैं। सोलर पंप से कम लागत में और समय रहते सिंचाई करके अच्छा-खास मुनाफा भी कमा सकते हैं।

Solar Pump Scheme के तहत मिलेगी 60 से 100 फीसदी सब्सिडी

बता दें कि सोलर पंप लगवाने के लिए कुछ ज्यादा खर्चा नहीं करना पड़ता है। यही नहीं सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कुसुम योजना (PM Kusum Yojana) के तहत सोलर पंप लगाने के लिए किसानों को सब्सिडी दी जाती है। इसी क्रम में राजस्थान सरकार ने भी सौर ऊर्जा पंप परियोजना चलाई है। इस योजना के तहत किसानों को 60 से 100 फीसदी सब्सिडी उपलब्ध करवाई जाएगी।

सोलर पंप से होगा फायदा

राजस्थान सरकार सोलर पंप की बढ़ती उपयोगिता के कारण यह योजना चलाई है। देखा जाए तो अब किसान सिंचाई के लिए बिजली पर निर्भर नहीं रहते हैं। वह अब खुद ही बिजली का उत्पादन करते हैं और अपने सारे काम करते हैं। इसके बाद बची हुई बिजली  प्राइवेट कंपनियों को बेचकर अतिरिक्त कमाई करते हैं। बता दें कि राजस्थान सरकार ने कृषि बजट घोषणा 2022-23 के तहत अगले 2 साल में 500 करोड़ रुपये के अनुदान का प्रस्ताव दिया है। देखा जाए तो सोलर पंप से काफी फायदा मिलेगा।

सोलर पंप पर सब्सिडी

सोलर पंप लगाने के लिए सरकार द्वारा किसानों को  लागत का 60 फीसदी अनुदान दिया जाता है। इस योजना के तहत एससी-एसटी वर्ग के किसानों को 45,000 रुपये के अतिरिक्त अनुदान का भी प्रावधान है। इसके साथ ही जनजातीय उप-योजना क्षेत्र में अनुसूचित जनजातियों को 100 फीसदी अनुदान का प्रावधान है। यह अनुदान यानी सब्सिडी 3 एचपी, 5 एचपी और 7.5 एचपी के सोलर सिंचाई पंप लगाने के लिए दी जाती है।

आवेदन करने के लिए जरूरी शर्तें

सोलर सिंचाई पंप पर सब्सिडी पाने के लिए जरूरी है कि ती में सिंचाई के लिए ड्रिप, मिनी स्प्रिंकलर, माइक्रो स्प्रिंकलर या पोर्टेबल स्प्रिंकलर सिस्टम का इस्तेमाल किया जा रहा हो।

ग्रीन हाउस, शेडनेट हाउस, लोट टनल में खेती करने वाले किसानों को सब्सिडी का फायदा पहले मिलेगा।

किसान के पास कम से कम 0.4 हेक्टेयर खेती लायक जमीन होनी चाहिए।

किसान के पास 1,000 घन मीटर क्षमता का जल संग्रहण ढांचा या 400 घन मीटर क्षमता वाली डिग्गी/फार्म पॉण्ड या 100 घन मीटर क्षमता का जल हौज या अधिकतम 100 मीटर गहराई का भूमिगत जलस्रोत होना चाहिए।

ऐसे करें आवेदन

आवेदन करने के लिए आपको राजस्थान सरकार द्वारा बताए गए पोर्टल पर जाना होगा। अगर आपको ज्यादा जानकारी चाहिए तो आप अपने जिले के कृषि विभाग के कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं।

इसके लिए हेल्प लाइन नंबर 1800-180-1551 भी जारी किया गया है। आवेदन करने के लिए किसान के पास आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, जमीन के कागज, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और पासपोर्ट साइट फोटो आदि डॉक्यूमेंट और चीजें होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें- Blackout Danger in MP: 200 आउटसोर्स कर्मचारियों को निकाला, 430 कर्मचारियों को नोटिस, पुरे MP की हो सकता हैं बत्ती गुल

बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक के बाद हिंदुस्तान पर परमाणु हमले की तैयारी में था पाकिस्तान! USA के पूर्व विदेश मंत्री ने किया दावा!

Kashmir Snowfall: दिल्ली में बूंदाबांदी, कश्मीर-हिमाचल में बर्फबारी के आसार