बहुत ही अनोखे हैं ब्रिटिश राज परिवार के नियम कानून, राजा-रानी के पहले सोने की भी इजाजत नहीं, जानें ऐसे ही अजीबो-गरीब नियम

British Royal Family Rule

British Royal Family Rule

British Royal Family Rule: गुरुवार देर शाम को ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का 96 साल की उम्र में निधन हो गया। वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रही थीं और डॉक्टरों की देख-रेख में उपचार चला रहा था। वहीं इसके बाद लोग यह ब्रिटिश राजपरिवार (British Royal Family) फिर से लोगों की नजर में आ गया है।

अजीबो-गरीब हैं British Royal Family Rule

आज हम यहां इस राजपरिवार से जुड़ी परम्पराओं के बारे में बात करने जा रहे हैं। बता दें कि यह राजपरिवार कई ऐसी अजीबो-गरीब परम्पराओं का पालन करता है, जिन्हें जानकार आप आश्चर्य में पड़ जाएंगे। ये अजीबोगरीब परंपराएं आज से नहीं बल्कि सैकड़ों साल से निभाई जा रही हैं। आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

नहीं पहन सकते हैं काले कपड़े

बता दें कि ब्रिटिश राजपरिवार के सदस्यों को काले कपड़े पहनने की इजाजत नहीं है। इस राजपरिवार के लोग काले कपड़े तभी पहनते हैं जब किसी शोक में मौजूद होना हो। वहीं इस राजपरिवार की महिलाओं का किसी औपचारिक आयोजनों में बाल खुले रखना सही नहीं माना जाता है। यही वजह है इस राजपरिवार की महिलाएं औपचारिक आयोजनों के दौरान सर में टोपी पहनती हैं।

बैग में रखना जरूरी है काले कपड़े

इस ब्रिटिश राजपरिवार का अजीब नियम है। यह शाही परिवार जब भी दुनिया के किसी भी हिस्से में जाता तो परिवार के हर सदस्य को अपने साथ कला कपडा रखना जरूरी होता है। उन्हें काली ड्रेस हमेशा अपने साथ रखनी होती है। दरअसल अगर कभी उन्हें किसी शोक कार्यक्रम में शामिल होना हो तो वह यह किसी दूसरी पोशाक की बजाय यह काली ड्रेस पहन कर जाएं।

डाइनिंग टेबल को लेकर भी बनें हैं अनोखे नियम

इस राजपरिवार में डाइनिंग टेबल पर खाने खाने को लेकर भी अनोखा नियम है। जैसे कि अगर आप राजा और रानी के साथ खाना खाते हैं तो आप तभी तक खाना खा सकते हैं जब तक राजा-रानी अपना कांटा-चाकू नीचे नही रख देते।

सीधे-सीधे कहें तो अगर राजा और रानी का पेट भर गया है और उन्होंने हाथ में लिए कांटा-चाकू को नीचे रख दिया तो सारे लोगों को भोजन करना बंद करना होता है। वहीं खाना खाते समय अगल-बगल के लोगों से ही बातचीत कर सकते हैं।

राजनीति मामलों से रहता है दूर

यह शाही परिवार देश की राजनीति मामलों में कोई हस्तछेप नहीं करता है। यह राज परिवार किसी भी राजनीतिक दल के समर्थन या खिलाफ में कोई बयान नहीं देता है। इसके साथ ही शाही परिवार का कोई सदस्य किसी भी चुनाव में वोट नहीं डालता। यही नहीं इस राजपरिवार के लोगों को राजनीतिक विचार रखने की भी मनाही है।

एक खास क्रम में करते हैं काम

इस राजपरिवार का एक और अनोखा नियम है। इस राजपरिवार के लोग कमरे में प्रवेश भी एक खास क्रम में करते हैं और इसी तरह टेबल पर भी बैठते हैं। जैसे सबसे पहले महारानी एलिजाबेथ द्वितीय प्रवेश करती है, उसके बाद प्रिंस चार्ल्स-कैमिला पारकर प्रवेश करते थे।

इनके बाद प्रिंस विलियम और केट मिडिलटन प्रवेश करते थे। उसके बाद घर के दूसरे सदस्य प्रवेश करते हैं। वहीं खाना खाने के लिए भी इसी क्रम में बैठते हैं। दरअसल यह खास क्रम का तरीका सिंहासन के उत्तराधिकारी को दर्शाता है। इसके आलावा जब तक राजा और रानी नहीं सो जाते हैं तब तक घर के दूसरे सदस्य नहीं सो सकते हैं।

लड़कों को सिर्फ 8 साल तक शॉर्ट्स पहनने की इजाजत

इस राजपरिवार की एक अनोखी परंपरा यह भी है कि इस राजपरिवार के लड़कों 8 साल की उम्र तक शॉर्ट्स पहनने की इजाजत है। जैसे ही वैसे 8 साल की  होते हैं उन्हें फुल पैंट पहनना जरूरी होता है।

वहीं  सिंहासन पर बैठे व्यक्ति को देश में गाड़ी चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत नहीं होती है। वह बिना किसी रोक टोक के कहीं भी आ जा सकता है।

जरूर पढ़ें- बेहद खूबसूरत समुद्री किनारों के लिए जाना जाता है पांडिचेरी, देश में ही कम पैसों में मिलेगा विदेशों जैसा नजारा, देखिए तस्वीरें

Indian Railways: रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, 20 सितंबर से Third AC यात्रियों रेलवे द्वारा मिलेगी ये नई सुविधा, सुनकर यात्री खुशी से झूम उठेंगे

युवती ने दिया जुड़वां बच्चों को जन्म, बाद में पता चला दोनों के पिता हैं अलग-अलग, जानें पूरा मामला

यहां लगता है दूल्हों का मेला, लड़कों के इन अंगों की जाँच करके शादी करती हैं लड़कियां