इस दुर्लभ बीमारी से पीड़ित हैं ये लड़का, शरीर पर है इतने बाल कि लोग देखते ही मारते हैं पत्थर! दुनियाभर में सिर्फ इतने लोगों को है ये अजीब बीमारी

Hypertrichosis

Hypertrichosis

Hypertrichosis: कुछ लोगों के शरीर पर बाल होते हैं और कुछ के नहीं। कुछ के शरीर पर सामान्य बाल होते हैं और कुछ के शरीर पर बहुत अधिक। जिनके शरीर पर सामान्य से अधिक बाल होते हैं, वे बालों के साथ रहते हैं या बालों को हटाने के लिए तरह-तरह के तरीके अपनाते हैं।

भारत में एक ऐसा बच्चा है जिसके चेहरे पर इतने बाल हैं कि कोई भी उसे देखकर डर जाए। ये मामला मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव नंदलेटा का है जहां एक 17 साल का लड़का एक सिंड्रोम से पीड़ित है जिसके कारण उसके चेहरे पर बाल आ गए हैं।

कौन है ये लड़का और उसे कौन सा सिंड्रोम है जिसकी वजह से उसके चेहरे पर सामान्य से कई गुना ज्यादा बाल होते हैं? इसके बारे में इस आर्टिकल में हम जानेंगे।

यह लड़का कौन है जो Hypertrichosis से पीड़ित हैं

17 साल के इस लड़के का नाम ललित पाटीदार है, जो एक सामान्य परिवार से आता है। लालिल वर्तमान में बारहवीं कक्षा का छात्र है और परिवार की मदद के लिए खेती भी करता है।

ललित का जन्म Hypertrichosis या Werewolf Syndrome के साथ हुआ था, यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें चेहरे, बाहों और शरीर के अन्य हिस्सों पर बालों का अत्यधिक विकास होता है।

बच्चे और लोग देखते ही सहम जाते हैं

ललित ने इंटरव्यू में कहा, ”मैं 17 साल का हूं और स्कूल भी जाता हूं. शुरुआत में छोटे बच्चे और लोग मुझे देखकर डर जाते थे। बच्चों को लगता था कि मैं उन्हें जानवर की तरह काटूंगा।

बचपन से मेरे चेहरे और शरीर पर बहुत बाल हैं। मेरे माता-पिता कहते हैं कि मेरे पैदा होने के बाद डॉक्टरों ने मेरा मुंडन कर दिया। जब तक मैं छह या सात साल का था तब तक किसी ने इस पर ध्यान नहीं दिया। कुछ समय बाद मैंने देखा कि मेरे शरीर के बाल तेजी से बढ़ रहे थे। लोग मुझे बंदर कहकर चिढ़ाते थे और मुझसे दूर भागते थे।

ललित ने कहा, “जब मैं छोटा था तब लोग मुझ पर पत्थर फेंकते थे क्योंकि मैं आम लोगों की तरह नहीं दिखता था। मैं लाखों लोगों से अलग था क्योंकि मेरे शरीर पर बाल थे। मैं भी आम लोगों की तरह जीना चाहता हूं.” और मैं खुश रहना चाहता हूं।”

हाइपरट्रिचोसिस या वेयरवोल्फ सिंड्रोम

शरीर पर बालों के बढ़ने की असामान्य स्थिति को Hypertrichosis कहा जाता है। हाइपरट्रिचोसिस दो प्रकार के होते हैं। एक स्थिति में शरीर के कुछ हिस्सों पर बाल आ जाते हैं और दूसरी स्थिति में एक खास हिस्से पर।

Hypertrichosis को वेयरवोल्फ सिंड्रोम के रूप में भी जाना जाता है। इस स्थिति में व्यक्ति के शरीर पर अत्यधिक बाल आ जाते हैं। यह सिंड्रोम पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करता है लेकिन यह काफी दुर्लभ है। Hypertrichosis जन्म के बाद या जन्म से पहले भी हो सकता है। हाइपरट्रिचोसिस के कई प्रकार होते हैं जैसे:

जन्मजात हाइपरट्रिचोसिस लैनुगिनोसा (Congenital hypertrichosis lanuginosa): हाइपरट्रिचोसिस की यह स्थिति जन्म के समय मौजूद होती है। इसमें जन्म के समय बच्चे के शरीर पर पाए जाने वाले महीन बाल शरीर में अलग-अलग जगहों पर दिखने लगते हैं।

जन्मजात हाइपरट्रिचोसिस टर्मिनलिस (Congenital hypertrichosis terminalis): हाइपरट्रिचोसिस की इस स्थिति में, बाल जन्म के समय असामान्य रूप से बढ़ने लगते हैं और जीवन भर बढ़ते रहते हैं। यह बाल आमतौर पर लंबे और मोटे होते हैं जो व्यक्ति के चेहरे और शरीर को ढक लेते हैं। यही स्थिति ललित की है।

नेवॉइड हाइपरट्रिचोसिस (Nevoid hypertrichosis): हाइपरट्रिचोसिस की इस स्थिति में शरीर के किसी भी हिस्से पर बालों के पैच देखे जा सकते हैं। कई मामलों में बालों का पैच एक से ज्यादा जगह पर हो सकता है।

हर्सुटिज्म (Hirsutism): हाइपरट्रिचोसिस की यह स्थिति केवल महिलाओं में होती है। इस स्थिति में महिलाओं के शरीर के उन हिस्सों में बाल अधिक काले हो जाते हैं जहां आमतौर पर बाल नहीं होते हैं। जैसे, चेहरा, छाती और पीठ ।

एक्वायर्ड हाइपरट्रिचोसिस (Acquired hypertrichosis): जन्म के समय होने वाले हाइपरट्रिचोसिस के विपरीत, यह स्थिति जीवन में किसी भी समय विकसित हो सकती है। इस स्थिति में मखमल जैसे बाल छोटे-छोटे पैच में दिखाई देने लगते हैं।

हाइपरट्रिचोसिस का कारण

Healthline के अनुसार, हाइपरट्रिचोसिस के कारणों को अभी तक समझा नहीं जा सका है, हालांकि यह एक प्रकार की बीमारी है जो वंशानुगत हो सकती है।

हाइपरट्रिचोसिस के संभावित कारणों में कुपोषण, आहार या खाने के विकार जैसे एनोरेक्सिया नर्वोसा, कैंसर, कुछ दवाएं जैसे एंड्रोजेनिक स्टेरॉयड, बाल बढ़ाने वाली दवा मिनोक्सिडिल और साइक्लोस्पोरिन (सैंडिम्यून) शामिल हैं।

जरूर देखें: राशन कार्ड धारको की बल्ले-बल्ले! Free Ration के लिए हुआ बड़ा बदलाव, सरकार देश में लागू करेगी ये नया नियम

अगर पता होंगी 3 चीजें तो सस्ते में मिल जाएगा Car Insurance, फटाफट जानिए पूरी डिटेल

Voter ID को Aadhaar Card से जल्दी कर लें लिंक, वरना..आ सकती है समस्या

इस डिवाइस की मदद से स्मार्टफोन में वीडियो देखने पर मिलेगा TV का मजा, इसकी कीमत भी हैं बहुत कम, जानें डिटेल्स