बहुत काम की खबर: अपने सामान्य खाते को ऐसे बदले जनधन खाते में, होंगे कई सारे लाभ

जनधन खाता खाते योजना

नई-दिल्ली. प्रधानमंत्री जनधन योजना मोदी सरकार की शुरुआती योजनाओं में से एक है। इस योजना का उद्देश्य शून्य शेष बैंक खाते खोलना और उन लोगों को बैंकिंग सेवाएं प्रदान करना है जो 21वीं सदी में भी उनसे वंचित थे।

जनधन योजना के माध्यम से सरकार ने गरीबों को कई लाभ दिए हैं। इस योजना के तहत खोले गए बैंक खाते पर बीमा कवर भी उपलब्ध है। साथ ही, ओवर ड्राफ्ट (एक तरह का लोन) की सुविधा भी है। ओवर ड्राफ्ट सुविधा के साथ, आप 10,000 रुपये तक निकाल सकते हैं,

यदि जरूरत के समय खाते में शून्य शेष राशि है। अगर आप जनधन बैंक खाता खोलना चाहते हैं तो आप किसी भी बैंक में जाकर इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। लेकिन अगर किसी के पास पहले से ही बचत खाता है तो क्या करें?

सोने की कीमत नये रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची, जानें भारत मे घटकर कितनी रह गयी सोने की डिमांड

अपने खाते को जनधन खाते में बदलें

पुराने बैंक खाते को जनधन खाते में बदलना बहुत आसान है। इसके लिए अपनी बैंक शाखा में जाएं और वहां एक फॉर्म भरें और RuPay कार्ड के लिए आवेदन करें। फॉर्म को पूरा करें और बैंक में जमा करें। बैंक आपके पुराने खाते को जनधन खाते में बदल देगा।

इस तरह, बस फॉर्म भरकर आपके बैंक बचत खाते को जनधन खाते में बदल दिया जाएगा। योजना के तहत खाता खोलना भी बहुत आसान है।

जनधन खाते का क्या होगा फायदा
अगर आप Saving खाते को जनधन खाते में बदल लेते हो, तो आपको कई सारे लाभ मिलने लगेंगे। जिसका जनधन खाता होता हैं उसे बैंक में जमा राशि पर ब्याज मिलता है। खाता धारक को मुफ्त मोबाइल बैंकिंग की सुविधा मिलती है।

जब भाई को प्रेमिका के साथ आपत्तिजनक अवस्था मे देखा, फिर बहन के साथ किया ये काम

जनधन खाता धारक 10000 रुपये की ओवर ड्राफ्ट सुविधा का लाभ उठा सकते हैं, जिसका अर्थ है कि भले ही खाते में पैसा नहीं है, फिर भी आपको 10,000 रुपये मिलेंगे। लेकिन खाता खोलने के कुछ महीनों के बाद ही यह सुविधा खाता धारक को प्रदान की जाती है।

बीमा कवर के लाभ
– खाता धारक को इस खाते के साथ 2 लाख रुपये का दुर्घटना कवर मिलता है
– आपको 30000 रुपये का बीमा कवर भी मिलेगा। खाता धारक की मृत्यु के बाद नॉमिनी को यह पैसा मिलता है
– खाता धारक जनधन योजना के माध्यम से insurance और पेंशन योजना खरीद सकते हैं

कोई न्यूनतम शेष राशि की आवश्यकता नहीं है
आपको इस खाते में न्यूनतम शेष राशि रखने की आवश्यकता नहीं होगी। बचत खाते में न्यूनतम बैलेंस बनाए रखना पड़ता है। यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो खाता धारक से शुल्क लिया जाता है। लेकिन आपको जनधन खाते में कोई न्यूनतम शेष राशि रखने की जरूरत नहीं है,

फिल्म इंडस्ट्री के 5 सबसे बड़े राज, जिन्हें दर्शकों से छुपाएं जाते है, जानकर हो जाओगे हैरान

और न ही आपसे शुल्क लिया जाता है। हालांकि, अगर खाता धारक चेक बुक सुविधा का लाभ उठाता है, तो न्यूनतम शेष राशि को बनाए रखना होगा।

जनधन योजना कब शुरू हुई
जन धन योजना 6 साल पहले 2014 में शुरू की गई थी। इस योजना को 28 अगस्त 2014 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया था। जबकि योजना 15 अगस्त 2014 को घोषित की गई थी। बता दें कि पहले ही दिन 1.5 करोड़ बैंक खाते खोले गए थे। योजना की शुरुआत।