Video: मोदी समर्थकों ने, कृषि बिल का विरोध कर रहे किसानों को लाठियों से पीटा

बिहार. वाह देश की व्यवस्था को भी शर्म आ गई है।
अब तो देश में आवाज उठाना भी एक तरह से देशद्रोह हो गया है। इन 7 सालों में कुछ देश के मायने बदल गए कि जनता की आवाज को दबाया जा रहा है. हक की बात की जाए तो उसको भी दबाया जा रहा है.

दंगे कराओ मंत्री बनाएँगे,बलात्कार करोगे तो विधायक बनाएँगे लेकिन देश को अन्न देने वाले किसानों की आवाज़ उठाओगे तो सार्वजनिक रूप से मारे जाओगे!ज़मीन पर उतर कर,गले तक बाढ़ के पानी में उतर कर ग़रीबों की मदद करने वाले पप्पू यादव के क़ाफ़िले पर भाजपा के गुंडों ने भीड़ के रूप में आकर सिर्फ़ इसलिए लाठी डंडों से बेरहमी से पीटा क्यूँकि वो किसानों की आवाज़ बुलंद कर रहे थे।

تم النشر بواسطة ‏‎Neha Bharti‎‏ في الجمعة، ٢٥ سبتمبر ٢٠٢٠

कुछ हमारे मीडिया साथी इसमें सहभागी है जो असलियत दिखाने सिर्फ और सिर्फ मुंबई में लगे हुए। एक तरफा प्रचार करते हैं। किसी की आवाज को दवा देना हमारे देश के संविधान में नहीं है। आज हमारे देश का अन्नदाता इस बिल को लेकर नाखुश था।

देश के हर हिस्से के किसान नाखुश है इस किसान बिल से

देश के हर कोने-कोने में कृषि बिल को लेकर किसान नाखुश हैं जिससे उन्होंने पूरे देश में आंदोलन चलाया भारत बंद का। किसी के समर्थकों द्वारा किसी बिल को लेकर आंदोलन करते हमारे किसानो इतनी बुरी तरह बेरहमी से मारा गया है।

सही मायने में अब भारत देश का विकास हो रहा है।
हम और आप सुन रहे होंगे एक और अच्छे पत्रकार पर या तो एफ आई आर हुई बीच रोड पर कुछ लोगों द्वारा हमला किया। जान से मारने की कोशिश की, कुछ तो अब हमारे बीच नहीं रहे। उनकी सेवा निष्ठा को भी प्रणाम करता हूं।

अन्नदाता कि हम रोटी खाते हैं उसी पर लाठी बरसा रहे हैं। देश का पालनहार है किसान पर इतनी लाठियां बरसाई गई है. वह किसान हर घर में देश के हर कोने कोने में अपने उगाए हुए अन्य से भरण पोषण करता है।

यह भी पढ़ें: सपोलों, आस्तीनियों और सपेरों की जुगलबंदी और व्यवस्था की व्यथा