सिंगल यूज़ प्लास्टिक क्या हैं? भारत सरकार ने इस पर क्यों लगाया बैन? जानें दूरगामी परिणाम

सिंगल यूज़ प्लास्टिक क्या हैं?

सिंगल यूज़ प्लास्टिक क्या हैं?: 1 जुलाई 2022 से सरकार ने देश में सिंगल यूज़ प्लास्टिक पर पूरी रोक लगा दी है। इससे आम आदमी को तुरंत तो कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा लेकिन दुग्ध उत्पादक कंपनियों में खलबली मच गयी। गंभीर आर्थिक नुकसान और किसानो की परेशानियों का वास्ता देकर अमूल कंपनी ने,

सरकार से इसे एक वर्ष बाद लागू करने का अनुरोध किया है जबकि सरकार ने एक वर्ष पहले ही सूचित कर दिया था कि एक जुलाई से पूर्ण रोक लगाई जाएगी।

सिंगल यूज़ प्लास्टिक क्या है?

सिंगल यूज़ प्लास्टिक क्या हैं इस पर रोक लगाने का कारण क्या है? ये जानने के प्लास्टिक उत्पादन प्रक्रिया जननी होगी। पेट्रोलियम बायप्रोडक्ट एथलीन का पालीमारायजेशन करके पॉलीथिन बनाया जाता है। इसमें कुछ प्रक्रिया के तहत चेन रिएक्शन कराकर पॉलीथिन बनती है,

लेकिन जिसे हम सिंगल यूज़ कैटेगरी में रखते हैं उसमे चेन रिएक्शन प्रक्रिया नहीं होती और इसे रीसायकल भी नहीं किया जा सकता। इस तरह के पॉलीथिन कैंसर और अन्य कई बिमारियों का कारण बनते हैं। इनमे पेय पदार्थ पीने के लिए जो स्ट्रा इस्तेमाल होता है वह बहुत ही घातक है।

अमूल प्रतिदिन 12 लाख स्ट्रा करता हैं उपयोग

अमूल कंपनी ने बताया है कि वह अकेले प्रतिदिन बारह लाख स्ट्रा का इस्तेमाल करता है, अन्य कंपनियों को जोड़ा जाय तो यह संख्या बीस लाख के करीब होगी। रिएक्शन न होने पर इन्हें नष्ट करने में सालों लग जाते है और इन्हें समुद्रों के तटों पर फेक दिया जाता है,

जो मनुष्यों और समुद्री जीवों के लिए घातक होते हैं। एक सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश में प्रतिवर्ष पैंतीस लाख टन सिंगल यूज़ प्लास्टिक का उत्पादन होता है जिसे नष्ट करने का अभी तक कोई उपाय नहीं है। इसके विकल्प के रूप में कागज़ के स्ट्रा को चुना जा सकता हैं,

लेकिन इसे विकसित करने में समय लगेगा क्योंकि इसके लिए कितने पेड़ों कि बलि देनी होगी यह प्रश्न विचारणीय है। लोगों के स्वास्थ्य और जीव जंतुओं पर पड़ने वाले दुष्परिणाम को देखते हुए यह सरकार का सराहनीय क़दम है, भविष्य में सरकार इसके कौन से विकल्प पर सहमति देगी इंतज़ार करना होगा।

जरूर पढ़े: LPG Gas Cylinder: सरकार ने फिर दिया महंगाई का झटका, घरेलू गैस सिलिंडर फिर हुआ महंगा

Sahara India Refund: सहारा में आपके भी फंसे हैं पैसे? अब ब्याज सहित वापस मिलेगी रकम, सहारा ने नया पत्र जारी किया

IRCTC ने फिर बदला ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुकिंग का नियम, आप भी जान लें वर्ना नहीं होगा टिकट बुक